BJP की जीत के बाद नोटबंदी से भी कड़े और अच्छे 6 फैसलों के लिए रहें तैयार, कालेधन वालों की खैर नहीं। 

​देश में पांच राज्यों के चुनाव नतीजे कुछ घंटों में आपके सामने होंगे. इन नतीजों में राज्यों की नई सरकार तो तय होगी ही लेकिन खासतौर पर उत्तर प्रदेश चुनाव का नतीजा फैसला करेगा कि 8 नवंबर को केन्द्र सरकार द्वारा लिया गया नौटबंदी का फैसला ठीक था या गलत. इसके साथ ही, अगर विधानसभा चुनाव के नतीजे मोदी के पक्ष में आ गए तो जनता को नोटबंदी से भी कड़े फैसलों के लिए तैयार रहना पड़ सकता है.

क्यों मोदी लेंगे और सख्त फैसले

मोदी ने नोटबंदी के बाद 50 दिन तक अपने कई भाषणों में आर्थिक और करप्शन फ्री सिस्टम के लिए सुधार की बात की थी. इसके लिए उन्होंने कई मौकों पर कहा था- हम यही नहीं रुकेंगे, नोटबंदी से भी कड़े फैसले लिए जाएंगे.

Related Top posts:-  सावधान !! बंद हो सकता है आपका मोबाइल नंबर

और क्या हो सकते हैं कड़े फैसले

1. मोदी सरकार नोटबंदी की तरह बेनामी प्रॉपर्टी को लेकर सरकार बड़ा कदम उठा सकती है. कानून पहले से पास है और जल्द ही उसे लागू करने की योजना है.
2. सब्सिडी में कटौती

मोदी कई मौकों पर जनता को सब्सिडी छोड़ने के लिए कह चुके हैं. उनकी अपील पर पिछले तीन साल में लाखों लोगों ने एलपीजी सिलेंडर पर मिलने वाली सब्सिडी छोड़ी है.
3. गोल्ड मोनेटाइजेशन में सख्ती

सरकार गोल्ड मोनेटाइजेशन स्कीम को सख्त कर सकती है.
4. GST लागू करना

GST लागू होने के बाद राज्यों में महंगाई बढ़ेगी. इससे पार पाने के लिए शायद ही केंद्र सरकार कोई कदम उठाए. महंगाई बढ़ने का सबसे बड़ा कारण ये हो सकता है कि वन टैक्स पॉलिसी के लागू होने से छोटे और मध्यम कारोबारियों को नुकसान होगा.
5. बैंक रिफॉर्म

Related Top posts:-  Watch Oscars 2017 Live Online on PC, Android, iPhone and iPad

बैंक डिफॉल्टर के खिलाफ सख्त होगी सरकार मोदी सरकार बैंकों का पैसा मारकर बैठे लोगों के खिलाफ सख्त हो सकती है. स्टेट बैंक का मर्जर इसी लिए चल रहा है. कुछ ऐसी एजेंसियां भी खुद को सामने ला रही हैं जो बैंकों से उनको मिलने वाला कर्ज खरीद सकती हैं और फिर उसे वे अपने ढंग और मनमानी तरीके से वसूलेंगी. 6. नोटबंदी में गड़बड़ी करने वालों पर गिरेगी गाज

नोटबंदी के दौरान कई प्राइवेट बैंकों ने गड़बड़ी की थी. सरकार ने उनसे सीसीटीवी फुटेज रखने के लिए कहा था. कई खातों में पैसे डाले गए थे, उनकी जांच शुरू होगी.


मोदी ने जब लिया था नोटबंदी का फैसला?

8 नवंबर को प्रधानमंत्री ने देश में सर्वाधिक प्रचलित 500 और 1000 रुपये की लगभग 86 फीसदी करेंसी को प्रतिबंधित कर दिया था. इस फैसले का पूरे देश पर व्यापक असर पड़ा. आम आदमी बैंक और एटीएम की लाइनों में खड़ा हो गया. तो देशभर में कैश पर आधारित कारोबार ठप पड़ गया. कैश की तंगी और गिरते आर्थिक आंकड़ों से केन्द्र सरकार भी सकते में आ गई.

Related Top posts:-  अगर होली में लगा नोटों पर रंग तो हो जाएंगे रद्दी, अब आया RBI का बड़ा फैसला
(Visited 1 times, 1 visits today)

One thought on “BJP की जीत के बाद नोटबंदी से भी कड़े और अच्छे 6 फैसलों के लिए रहें तैयार, कालेधन वालों की खैर नहीं। 

  • March 12, 2017 at 10:31 PM
    Permalink

    Midi ji kale dhan ke liye jo bhi Kiya vah thik hai lekin desh ki seema par din rat duty Kane wale bsf ke jawan se pata Kiya ki unke dil par kya gujarti hai job income tax ke Nam par unke rashan many ke atirikt unse rashan many ka 10% income tax 3600 rupees bsf ka jawan khana khane ka income tax deta hai. Dhany hai is desh ki sarakar salary to salary bsf ke jawan ke pat par bhi income tax lagadiya. Pahale to ek sipahi ko milta hi kitana hai apne do bachcho ko bhi achhe school me padane me hi bik jata hai fir govt uspe jakar income tax thap deti hai. Mahigai dekho 210 rupees me 10 kg atta Ata tha jo aj 350 rupees se upar ho gaya hai Mahigai bhatta 2% bhi nahi mil raha hai bsf ke jawan sarakar ki es tanasahi se paresan ho Kar retirement ja rahe hai karate hai is service se to achha hai Ghar me kheti badi karke bhacho ko bhojan to khila sakte hai aur ek jarasi cow palkar usake dudh se bsf ki salary se jayada paisa kama sakte Hai. Bsf ka jawan ek Plat tak nahi lesakta Hai. Ek train me Chay bechne wala bhi apne bachcho ko thik se pada Sakta Hai.

    Reply

Have a Query? Ask Here, we will get back to you!