मुफ्त एलपीजी कनेक्शन के लिए परिवारों को देना होगा आधार नंबर, जानिये पूरा तरीका। 

​सरकार ने जैसे पिछले साल अक्टूबर में एलपीजी सिलेंडर पर मिलने वाली सब्सिडी के लिए आधार कार्ड अनिवार्य कर दिया था। वैसे ही अब सरकार ने प्रधानमंत्री उज्जवला योजना के तरह मुफ्त एलीपीजी सिलेंडर लेने वाली निर्धन महिलाओं के लिए आधार कार्ड अनिवार्य कर दिया है। यानि अब बीपीएल परिवारों के लिए मुफ्त एलपीजी सिलेंडर लेने के लिए भी आधार कार्ड अनिवार्य हो गया है।

सरकार का कहना है कि बीपीएल यानी गरीबी रेखा से नीचे आने वाली महिलाएं जिनके पास आधार कार्ड नहीं है, वो 31 मई तक आधार कार्ड बनवा सकती है। इसके अलावा जिन महिलाओं ने आधार कार्ड बनवाने के लिए आवेदन किया हुआ है, वो भी इनरॉल नंबर के साथ मुफ्त एलपीजी कनेक्शन के लिए आवेदन कर सकती हैं।

​देश में 14 करोड़ से ज्‍यादा एलपीजी के ग्राहक हैं।

आप रोजाना अपने घर में इसका उपयोग भी करते हैं लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि हर एलपीजी सिलेंडर पर 50 लाख रुपए का बीमा होता है।

रोजाना आग लगने की घटनाएं और जान-माल का नुकसान की खबरें आती हैं।


लेकिन कम लोग ही यह जानते हैं कि इन एलपीजी सिलेंडरों के चलते होने वाली दुर्घटनाओं से हुई क्षति के लिए ग्राहक 50 लाख रुपए तक के मुआवजे का हकदार होता है।

दरअसल इंडियन ऑयल, हिन्‍दूस्‍तान पेट्रोलियम तथा भारत पेट्रोलियम के वितरकों को ग्राहकों और प्रॉपर्टीज के लिए थर्ड पार्टी बीमा कवर सहित दुर्घटनाओं के लिए बीमा पॉलिसी लेना होता है।

बीमे के नियमों के अनुसार हादसे में यदि कोई जान-माल का नुकसान होता है तो ग्राहक को 50 लाख रुपए तक की बीमा रकम मिल सकती है।

दुर्घटना में पीड़ित प्रत्येक व्यक्ति को अधिकतम 10 लाख रुपए की क्षतिपूर्ति दी जा सकती है।

यदि कोई हादसा होता है तो ग्राहक को इसकी सूचना पास के पुलिस स्‍टेशन और एलपीजी वितरक को देनी होती है।

सूचना दिए जाने के बाद संबधित अधिकारी हादसे के कारणों की जांच करता है।

अगर दुर्घटना एलपीजी की वजह से हुई हो तो वितरक गैस कंपनी को इसकी जानकारी देता है।

Leave a Reply

%d bloggers like this: